मोरक्को में सुंदरता लड़ रही आजादी के लिए

समंदर किनारे बसा मोरक्को एक खूबसूरत देश है। ढेरों मीलों फैला रेगिस्तान और कुदरत के तराशे गए ऊंचे-ऊंचे पर्वत। जितना ये देश खूबसूरती के लिए जाना जाता है उतना ही अपने देश की महिलाओं की आवाज कुचलने के लिए।

देश में महिलाओं के लिए तुगलकी फरमान है कि कोई भी महिला बिना बुर्के के घर से बाहर नहीं निकल सकती। कई बार महिलाओं ने आलाकमान की मुखालफत भी की लेकिन नतीजा सिफर रहा।

मोरक्को में सार्वजनिक जगहों पर चुस्त और छोटे कपड़ें पहनना गुनाह है, और इसके लिए मोरक्को पैनल कोड 483 के तहत सजा का प्रावधान है। जिसकी गाज समय-समय पर अक्सर महिलाओं पर गिरती है।

मोरक्को हाल ही चर्चा में आया, वहां की महिलाओं की उठाई मांग की वजह से। महिलाओं का कहना है कि उनके लिए अलग से बीच (सागर तट) का प्रबंध किया जाए। जहां पुरुषों का प्रवेश निषेध हो।

महिलाओं का कहना है कि देश के और भी इस्लामिक देशों में इस तरह की व्यवस्था है, जहां वे खुले आम बीच का आनंद ले सकती हैं। इस बात को लेकर जहां कई लोग उनका समर्थन कर रहे हैं तो कुछ विरोध।

वहां की महिलाओं का कहना है कि हम पुरुषों के सामने बुर्का उतार नहीं सकते और बुर्के में नहा नहीं सकते। वहीं इसके उलट मोरक्को सरकार और नारीवादी संगठनों का कहना है कि महिलाए बुरकिनी में नहा सकती है। बुरकिनी मोरक्को का स्विमिंग कॉस्चयूम है।

महिलाओं की आजादी पर पाबंद लगाना कहां तक सही है। इस बात का सीधा इशारा है कि जिसकी लाठी उसकी भैंस। मोरक्को को जरूरत है पूर्ण लोकतंत्र की।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s