उसे मुझसे प्यार है कि नहीं?

हम सभी कभी न कभी प्यार में पड़ते हैं और अगर अब तक नहीं पड़े तो हो सकता है कि वो दिन जल्द आए। मुद्दा ये नहीं है कि हमें प्यार हुआ या नहीं। बात ये है कि अगर हमें किसी से प्यार हुआ और सामने वाले को भी हमसे मोहब्बत हो गई। लेकिन किसी भी वजह या मजबूरी के चलते दोनों साथ नहीं हैं।

दो लोग जब प्यार में होते हैं तो दोनों की उम्मीदें एक-दूसरे से लगभग एक जैसी ही हो जाती हैं। और ये सही भी है। अब अगर आप अपने प्यार से उम्मीद नहीं रखेंगे तो भला किससे रखेंगे। अगर आप खुद से कोई उम्मीद रखते हैं तो जिससे आप प्यार करते हैं वो आपसे अलग कैसे हो जाएगा?

दो लोगों के बीच प्यार हुआ लेकिन वे शादी नहीं कर सके। अब अलग-अलग हैं। दोनों को एक-दूसरे की कोई ख़बर नहीं है। दोनों सुकून से तो नहीं लेकिन जी रहे हैं। कभी वे न अलग होने की कसम खाया करते थे। एक दिन अगर न मिले तो परेशान हो जाया करते थे। अब ऐसा क्या हुआ कि दोनों अलग रह कर अपने-अपने काम किए जा रहे हैं?

सवाल बहुत सारे मन में आते हैं लेकिन जवाब बस एक ही ज़हन में आता है कि भले ही हम साथ न हो लेकिन उसने मुझसे प्यार किया था। जब हम साथ थे तो बस पूरे होते थे। वो लगाव, वो जज्बात किसी और से फिर नहीं जुड़ सकते। जब हमें ये विश्वास हो जाता है कि वो हमसे प्यार करता था लेकिन बस मजबूर होकर वो हमारा नहीं हो सका या हम उसके नहीं हो सके लेकिन तो क्या हुआ, किसी को पा लेना भर से ही प्यार पूरा नहीं होता।

आप जिससे प्यार करते हैं वो भले ही आपके साथ हो या ना हो वो आपसे प्यार करता है तो आपके जज्बात कहीं न कहीं उससे अपने-आप जुड़े रहते हैं। उसकी यादों को आप खुद से कभी अलग नहीं कर पाते।

अगर जो कोई भी इसे पढ़ रहा हो तो वो बताए कि मैं कहां तक सच लिख पाया हूं?

रिश्ते ख़ामोश हो रहे हैं…

2

प्यार में पड़ने के बाद जीवन में एक ऐसा पढ़ाव जरूर आता है जब हम अपने पार्टनर के साथ ख़ामोश-ख़माेश रहने लगते हैं। ऐसा नहीं है कि हमें उससे प्यार नहीं होता लेकिन कभी-कभी उस प्यार की वज़ह से ही हम उससे किसी भी तरह की बहस नहीं करना चाहते अगर बहस करेंगे तो लड़ाई भी हो सकती है और लड़ाई के बाद उसे खो देने का डर हमें कुछ कहने से हमेशा रोकता रहता है।

आपके साथ भी अगर ऐसा होता है या हुआ है और अगर अभी तक नहीं हुआ तो आगे जरूर होगा। ये प्यार का ही एक पढ़ाव है जहां से हर इंसान गुजरता है। ये ख़ामोशी किसी रिश्ते को जीते जी मार देती है। हमें लगता है कि हम बात न करके या किसी बात को इग्नोर करके ठीक कर रहे हैं लेकिन दरअसल ऐसा होता नहीं है। हम धीरे-धीरे अपने प्यार भरे रिश्ते की कब्र खुद ही खोद रहे होते हैं।

हालाकि ऐसा एक दम नहीं होता कि हम बात करना बंद कर देते हैं। लेकिन धीरे-धीरे जब ये एहसास होने लगता है कि सामने वाला हमारी शिकायतों ज़ज्बातों को तवज्जो नहीं दे रहा होता है तो दिल को ठेस लगती है और बाद में यही ठेस हमें या तो बहुत मजबूत कर देती है या बहुत कमजोर।

किसी रिश्ते में ये कई बार सुनते हैं कि अब तुम मुझे प्यार नहीं करते। वास्तव में जब किसी रिश्ते में ये शब्द बार-बार गूंजने लगे तो समझ जाना चाहिए कि हम अपने साथी को समझ नहीं पा रहे हैं। वो क्या कहना चाहता है? उसके मन में क्या चल रहा है? क्या हम जाने-अंजाने में अपने साथी को ठेस पहुंचा रहे हैं? कुछ इस तरह के सवाल हमें खुद से जरूर करना चाहिए।

हम जब इन सवालों के जवाब न ढूंढ पाए तो अपने साथी से जरूर बात करनी चाहिए। ऐसा भी हो सकता है कि वो एक-दो बार में ना बताए और लड़कियों के मामले में ऐसा जरूर होता है कि वो आसानी से अपने मन का हाल नहीं बताती। आपके लिए घंटो रोती रहेंगी, अंदर से बहुत कमजोर हो जाएंगी लेकिन आपको भनक तक नहीं लगेगी।

जब रिश्ते में ख़ोमोशी दस्तक देती है तो कुछ भी ठीक नहीं लगता। हम किसी के साथ होते हुए भी उसके साथ नहीं होते एकदम कोमा जैसी कंडीशन हो जाती है कि हो तो सब रहा है पर हम कुछ नहीं कर रहे सब अपने-आप हो रहा है। ये कंडीशन बहुत खराब है, बहुत ज्यादा खराब है।

लड़के अक्सर ऐसा करते हैं कि किसी लड़की को अपना साथी बनाने के लिए शुरुआत में बहुत जतन करते हैं और जो एक बार लड़की हां बोल देती है तो फिर उनके जतन धीरे-धीरे कम या कई बार खत्म हो जाते हैं। फिर वो उस लड़की को स्पेशल फील करवाना बंद कर देते हैं।

तो दोस्तों ऐसा मत करो मेरी बस यही सलाह है कि किसी को अगर अपना मान रहे हैं तो दिल से उसे अपना मानो। अगर किसी को खास मानते हो तो उसे वहीं तवज्जो दो जो पहले देते थे। किसी रिश्ते को जीते जी मत मर जाने दो। और सबसे खास बात बस अपने साथी से बातें करते रहो चाहे रिश्ता कितना भी पुराना क्यूं न हो गया हो।

यकीन मानो अगर आपका साथी आपकी बातों से ऊब कर किसी और के पास जाता भी है तो वो आपको भुला नहीं पाएगा। उसे आपकी बकवास हमेशा याद आती रहेगी और वो दिल ही दिल में यही दुआ करेगा कि काश आपका साथ उसे फिर से मिल जाए…

किसी से प्यार क्यूं हो जाता है?

ऐसा नहीं है कि हमें जीवन में बस एक बार ही किसी से प्यार होता है। हमें कई बार प्यार होता है। पहले प्यार के बाद हम टूट जाते हैं कभी-कभी बहुत ज्यादा टूट जाते हैं। कुछ भी अच्छा नहीं लगता, किसी काम में मन नहीं लगता। दुनिया बेगानी से लगने लगती है।

परिवार की बातें चुभने लगती हैं। जब दोस्तों के साथ मन बहलाने के लिए बाहर निकलो तो भी मन बस खोया-खोया सा रहता है। लाख जतन करने के बाद भी दुखी मन को तसल्ली नहीं मिलती। प्यार अगर किसी वजह से हो तो समझ में भी आता है कि चलो वो वजह खत्म तो प्यार खत्म लेकिन जब कोई वजह ही नहीं हो प्यार खत्म होने में बहुत टाइम लगता है या फिर पहला प्यार कभी खत्म नहीं होता वो कहीं न कहीं हमारे दिल के किसी कोने में बेहोश पड़ा रहता है।

ये बात वाकई जानने वाली है कि हमें किसी से प्यार क्यूं हो जाता है, क्यूं कोई हमारे दिल और दिमाग पर चौबीस घंटे छाया रहता है? दिल सिर्फ उससे मिलने की दुआं करता रहता है और दिमाग में बस उससे बात करने और मिलने की तरकीबें चलती रहती हैं।

प्यार करने की सभी की अपनी-अपनी वजहें हो सकती हैं। जैसे कोई सिर्फ सेक्स के लिए प्यार करता है, कोई किसी को सिर्फ अपना बना लेने के लिए, शादी करने के लिए। उसके साथ जीवन भर रहने के लिए। उसकी खुशी के लिए। उसके दुख मिटाने के लिए। उसके लिए कुछ भी करने के लिए। बहुत सारी वजह हो सकती हैं।

हम बहुत सारी फिल्मों में भी देखते हैं कि प्यारी किस वजह से होता है। किसी को लड़की की सूरत अच्छी लगती है तो किसी को सीरत। कोई लड़की के लिए कुछ भी करने को तैयार रहता है तो कोई बस हालत के सामने घुटने टेक देता है।

मान के चलते हैं कि आप किसी से अभी प्यार करते हैं और उसके लिए कुछ भी करने को तैयार है, कुछ भी। लेकिन क्या पता कल को वो प्यार आपके साथ रहे या न रहे। आप अब ये मत समझ लेना कि आप दुनिया को उससे छीन लोगे, उसके लिए दुनिया में आग लगा दोगे अगर वो न मिली तो।

बस ये याद रखना कि श्रीकृष्ण भगवान थे वे जिस राधा से प्यार करते थे उसे पा न सके। लेकिन उनका प्यार आज भी अमर है। क्यूंकि अगर पा लेना ही प्रेम होता तो शायद उनका प्रेम इतना फेमस नहीं होता। वे भी आम इंसान की तरह विरह में रोए, तड़पे हैं और वियोग सहा है।

उनके प्रेम की वजह हो या न रही हो इस बात का तो कोई भी पता नहीं लगा सकता है लेकिन एक बात समझ में आती है कि वे इस संसार को ऐसे प्रेम का संदेश देने आए थे जिससे इंसान ये समझ सकें कि श्रीकृष्ण का प्रेम राधा के लिए और मीरा का श्रीकृष्ण के लिए प्रेम अमर है। वो प्रेम का साकरा रूप है।

आखिर में यहीं कहूंगा मेरे दोस्त कि अगर किसी से प्रेम हो तो बिना किसी वजह के हो। अगर वो प्यार तुम्हारे साथ कल हो न हो तो भी उसके लिए अच्छा सोचना और खुद से प्रेम करते रहना लेकिन कभी स्वार्थी न हो जाना। प्रेम कोई वजह नहीं होगी तो किसी बात का मलाल नहीं रहेगा। केवल प्रेम ही रहेगा।

माउंट आबू जाने से पहले जान लें ये खास बातें

माउंट आबू, राजस्थान के रेगिस्तान में लहलहाता खलिहान। ये राजस्थान में एकमात्र हिलस्टेशन है जो बहुत खूबसूरत हैं। 
 
माउंट आबू जाने के लिए पहले आपको आबू रोड जाना होगा क्योंकि माउंट आबू जाने के लिए सीधा कोई ट्रांसपोर्ट नहीं है। आबू रोड आप ट्रैन या बस से जा सकते हैं। 
 
अगर आप दिल्ली से हैं या कहीं और से हैं तो आप अपनी जेब के मुताबिक खर्च करके आबू रोड पहुंच सकते हैं। सस्ते में निबटने के लिए आप किसी भी आबू रोड जाने वाली ट्रैन या बस में बैठ सकते हैं। 
 
ये आप पर निर्भर करता है कि आप जनरल डिब्बे में जाएंगे या एसी में। मैं आपको बताने जा रहा हूं कि आबू रोड से माउंट आबू तक पहुंचने, ठहरने और घूमने में आप कैसे पैसे बचा सकते हैं। 
 
आबू रोड जाने के लिए बस बहुत ही कम है। ट्रैन का सफर ज्यादा सही और सुरक्षित है। आबू रोड रेलवे स्टेशन पर पहुंचते ही आपका माउंट आबू का सफर शुरू हो जाता है। 
 
रेलवे स्टेशन से बाहर निकलते ही प्राइवेट टैक्सी वाले मिलते हैं। वे माउंट आबू पहुंचाने के लिए 700 से 1000 तक रेट बताते हैं। ठीक से बात करने पर उनमें से कई 500 या 600 तक भी मान जाते हैं।
 
अगर बजट कम है तो इन प्राइवेट टैक्सी वालों का बाय-बाय कहिए। स्टेशन से बाहर 50 मीटर चलने के बाद 10 रुपये सवारी वाले ऑटो मिलते हैं। 
 
इन ऑटो को जरिए सरकारी बस स्टैंड तक 5 मिनिट में पहुंच सकते हैं। वहां से माउंट आबू जाने के लिए 6 बजे तक बस मिल सकती हैं। ये बसें माउंट आबू पहुंचाने में केवल 40 से 45 मिनिट का समय लेती हैं। इनका किराया 40 रुपये सवारी होता है। लेडीज का 30 रुपये। 🙂
 
हरे-भरे घुमावदार पहाड़ी रास्तों से होते हुए आप माउंट आबू पहुंच जाते हैं। इन रास्तों पर सफर भी बहुत रोमांचकारी होता है। माउंट आबू बस स्टैंड के पास ही कई सारे होटल्स हैं।
 
ठीक-ठाक बजट वाला होटल ढूंढने के लिए मेहनत करनी पड़ सकती है। बजट कम है तो किसी एजेंट की बातों में न आएं। खुद जाकर होटल सर्च करें।    
 
ठीकठाक होटल  1000 से 1200 तक की रेंज में मिल सकता है। इससे कम में न लें तो ही बेहतर है। होटल शांति एक अच्छा ऑप्शन है। पुराने बने कमरे न लें। 
 
माउंट आबू में घूमने के लिए बहुत सी जगह है। एक दिन में ठीक से माउंट आबू घूमना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। 
 
हां अगर मंदिर घूमना नहीं चाहते तो माउंट आबू एक दिन में घूमा जा सकता है। गुरु शिखर पर्वत, नक्की लेक, वेक्स म्यूजियम और सनसेट पॉइंट के अलावा घूमने के लिए कुछ नहीं है। 
 
माउंट आबू की सैर के लिए मोपेड, बाइक, बुलेट और प्राइवेट कार आसानी से मिल सकती हैं। स्कूटी 300 रुपये में, बाइक 500 रुपये में, बुलेट 800 रुपये में और प्राइवेट टैक्सी 1500 रुपये में।
 
अगर आप प्राइवेट टैक्सी करना चाहते हैं तो किसी एजेंट के जरिए न करें। होटल शांति के पास ही कई प्राइवेट टैक्सी वाले मिल सकते हैं। ये कार वाले भी आपसे 1500 रुपये चार्ज करने की बात कहेंगे लेकिन ठीक से बात करने पर 1200 रुपये में बात बन सकती है।
 
माउंट आबू से वापस आबू रोड आने के लिए लास्ट बस या टैक्सी शाम 8-9 बजे तक ही मिलेंगी। रात ज्यादा होने पर वापस आने के लिए जेब ढीली करनी पड़ सकती है। 
 
आर्टिकल से मदद हुई हो तो लाइक कीजिए और ज्यादा जानकारी के लिए खुद से जोड़िए।  

क्या जानते हो प्यार के बारे में?

अक्सर हम सभी के साथ होता है। जब-जब ये सवाल कि क्या जानते हो प्यार के बारे में? सामने आता है हम उलझन में पड़ जाते हैं। समझ नहीं आता न कि इस सवाल का जवाब कैसे दिया जाए? दो लोग जब रिलेशनशिप में होते हैं तो वे कई सारी चीजें करते हैं जिससे एक-दूसरे को अहसास हो सके कि वे आपस में प्यार करते हैं।

फिर ये सवाल कैसे उठते हैं कि कैसा प्यार करते हो, कितना प्यार करते हो? ये प्यार में तोल-मोल का व्यापार कैसे होने लगता है? बड़ा मुश्किल हो जाता है किसी एक के लिए अपना प्यार साबित करते रहना और एक दिन वो थक जाता है।

तो दोस्तों मेरा कहना बस यही है कि अगर प्यार करो तो बस प्यार करो। फिर व्यापार मत करो। अगर सामने वाला गलत भी हो तो भी उससे प्यार करो जब तक कि आप थक नहीं जाते। यकीन मानिए जब आप थक जाएंगे अपना प्यार साबित करते-करते तो खुद ब खुद उस गलत इंसान के प्यार से अपने आप निकल जाएंगे।

एक बार जब आप गलत प्यार से निकल जाएंगे तो इस बार आप एक अनुभवी प्रेमी बनिए और एक ऐसा साथी ढूंढिए जिसे आप बहुत प्यार करें और वो आपको। लेकिन किसी को सबक सिखाना और किसी से बदला लेने की बात अपने मन में न रखें।

प्यार की इस राह में बहुत हर्ट हो जाओगे…

अगर आप एक एवरेज दिखने वाले इंसान हैं और चाहते हैं कि आप किसी से बेइंतहा प्यार करें और कोई बदले में आपको भी वैसा ही प्यार करें तो एक खूबसूरत चेहरे के पीछे कभी मत भागना दोस्त। उस लड़की के पीछे अपना टाइम और फीलिंग्स बर्बाद मत करना। Continue reading “प्यार की इस राह में बहुत हर्ट हो जाओगे…”

मेरी बेचैनी की वजह मुझे पता नहीं!

मेरे सामने तेजी से गुजरती धड़ा धड़ गाड़ियां… मैं एक पुल के फूटपाथ पर बैठा उन गाड़ियों को आते जाते देख रहा हूँ।मैं सोच रहा हूँ… आता जाता समय। मेरे जीवन का बीता समय और आने वाला समय। Continue reading “मेरी बेचैनी की वजह मुझे पता नहीं!”