पनामा पेपर्स के लीक होने से अमीरों का चैन लीक

पनामा पेपर्स लीक मामले ने दुनिया भर के पैसे वालों की नींद उड़ा रखी है। दस्तावेजों की जांच-परख चल रही है, पता नहीं कब किसके नाम का खुलासा हो जाए। खैर ये दस्तावेज एक साल पहले ही मीडिया में लीक हो चुके थे।
इन दस्तवाजों को जॉन डोए (काल्पनिक नाम) ने जर्मनी के एक अखबार, जिसका नाम Süddeutsche Zeitung है, Continue reading “पनामा पेपर्स के लीक होने से अमीरों का चैन लीक”

Advertisements

आतंकवादी हक्कानी का अंत पर नाम अनंता

एक साल पहले मर चुके हक्कानी नेटवर्क के प्रमुख सरगना जलालुद्दीन हक्कानी की मौत पर जलालुद्दीन हक्कानीअभी भी असमंजस बना हुआ है। पाकिस्तानी खुफिया की तंत्र की माने तो हक्कानी का अंत हो चुका है, लेकिन वहीं तालिबान के प्रवक्ता ज़बिउल्लाह मुजाहिद के मुताबिक हक्कानी अभी भी जिंदा है और बीमार है।

यह किस्सा अफगान तालिबानी सरगना मुल्लाह मोहम्मद ओमार की दो साल पहले हो चुकी मौत को भी को छिपाया गया था। अक्सर सुनने में आता है कि फलाना आतंकवादी मर गया है, ढिकाना मर गया। कुछ समय बाद वो प्रकट हो जाता है।

इस बारे में एक फिल्म तेरे बिन लादेन की याद आती है, कि किस तरह सरगना के नकाब के पीछे पूरा नेटवर्क काम करता है। एक 6 बाइ 6 के अंधेरे कमरे में से एक टेप जारी होता है। और दुनिया में कहीं भी घटना को अंजाम देने की चेतावनी दी जाती है।

हक्कानी नेटवर्क के बारे में कुछ जानकारी

  • हक्कानी नेटवर्क की शुरूआत लगभग एक दशक पहले जलालुद्दीन हक्कानी ने की थी। ये नेटवर्क अमेरिका में अपहरण और आत्मघाती हमलों को अंजाम देने के लिए जिम्मेदार है। 2012 में अमेरिका ने इस नेटवर्क को आतंकवादी घोषित किया।
  • ये नेटवर्क पाकिस्तान और अफगानिस्तान के समीपवर्ती इलाके, वजिरिस्तान से ऑपरेट करता है। ये तालिबान और अलकायदा से जुड़ा है।
  • हक्कानी का बेटा सिराजुद्दीन हक्कानी आतंकवादी ग्रुप अफगान तालिबान का डिप्टी चीफ है।